बिग ब्रेकिंग: SC ST एक्ट को लेकर शिवराज सिंह चौहान का बड़ा फैसला, अब गिरफ़्तारी से पहले…

एससी/एसटी एक्ट को लेकर इस समय पूरे देश में हाहाकार मचा हुआ.है. स्वर्ण जाति के लोग बुरी तरह से डरे हुए हैं कि एससी/एसटी एक्ट पर लाये गये कानून से उन्हें भारी नुकसान होने वाला है. तो बता दें ऐसा कुछ नहीं है यह सिर्फ़ लोगों में भय बना दिया गया है कि एससी/एसटी एक्ट का दुरपयोग किया जाएगा और लोगों को झूठा फंसाया जायेगा. देशभर में एससी/एसटी के अंतर्गत आने वाले लोगों ने सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद जमकर हंगामा काटा था जिसके बाद सड़कों पर आगजनी, तोड़फोड़ हुई और इस उपद्रव में कई लोगों की मौत भी हो गयी थी.

Image Source-Dailyhunt

सरकार ने देश में हो रहे नुकसान, आगजनी और तोड़फोड़ को देखते हुए ही इस एक्ट में संसोधन किया था ताकि निर्दोष लोग उपद्रवियों के निशाने पर ना आयें और मासूम लोग नहीं मारे जाए. सरकार का इस एक्ट में संशोधन करने का मतलब यह नही था कि निर्दोष लोगों को झूठा फंसाया जाए. ये सिर्फ सरकार को बदनाम करने की साजिश है जिससे सरकार की छवि खराब हो ताकि अन्य पार्टी इसका फायदा ले सकें. बल्कि अगर इस एक्ट की बात करें तो यह तो खुद कांग्रेस सरकार की देन है. अब एससी/एसटी एक्ट को लेकर मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बड़ा फैसला लिया है.

Image Source-APN Live

एमपी में सीएम शिवराज सिंह चौहान का एससी/एसटी एक्ट को लेकर बड़ा फैसला  

एससी/एसटी एक्ट को लेकर लोगों में खौफ बना हुआ था कि अगर उनके ऊपर यह मुकदमा दर्ज होगा तो उनकी तुरंत गिरफ़्तारी की जाएगी. तो बता दें ऐसा कुछ नहीं है और जनरल कास्ट वाले लोगों को डरने की कोई जरुरत नहीं है. सीएम शिवराज सिंह चौहान ने अपने ट्वीटर हैंडल से ट्वीट करते हुए लिखा है कि  ‘एमपी में नहीं होगा SC-ST ऐक्ट का दुरुपयोग, बिना जांच के नहीं होगी गिरफ़्तारी.’ उन्होंने यह ट्वीट करते हुए साफ़ किया है कि बिना जाँच के किसी की गिरफ्तारी नहीं की जाएगी.

गौरतलब है कि शिवराज सिंह के इस ऐलान के बाद तो लोगों को राहत मिली है क्योंकि कुछ लोगों ने अफवाह फैला दी थी कि इस एक्ट के तहत तत्काल गिरफ्तारी की जाएगी तो बता दें अब अधिकारिक रूप से भी इस एक्ट को लेकर खुद सीएम ने यह घोषणा कर दी है. तो अब घबराने की कोई जरुरत नहीं है.

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *